Technology GK

SpaceX Starship Mission All Tech Knowledge | 15 Points | Technology GK

Last Updated on May 3, 2021 by GKQUESTIONBANK


SpaceX के Star Ship मिशन की पूरी जानकारी



दोस्तों हम सभी को पता है की एक ना एक दिन पृथ्वी पर मौजूद ख़त्म होंगे और हमें भविष्य में सौरमंडल या दूर किसी और ग्रह पर जीवन की तलाश करनी पड़े। इसी बात को ध्यान में रखते हुए अमेरिका की कंपनी SpaceX ने अपने Star Ship मिशन की तैयारी शुरू कर दी है।

दोस्तों आज इस Post में हम SpaceX के Star Ship मिशन की पूरी जानकारी आपको देंगे। जिन्हें पढ़कर आपको इस मिशन के बारे में अधिक से अधिक Knowledge मिलेगी। तो चलिए शुरू करते हैं।


15 GK Points On SpaceX Starship Mission


  1. .स्टारशिप मिशन की स्थापना एलोन मस्क की निजी स्पेसफलाइट कंपनी स्पेसएक्स ने की है।
  2. स्टारशिप पूरी तरह से Reusable Transport परिवहन प्रणाली है जो 100 लोगों को मंगल ग्रह तक ले जाने में सक्षम होगी।
  3. स्टारशिप मिशन का उद्देश्य सौरमंडल के जीवन को बहु-ग्रहीय बनाना है।
  4. स्टारशिप एक रॉकेट और अंतरिक्ष यान से मिलकर बनाया जा रहा है जो मंगल ग्रह के लिए 100 से अधिक लोगों को एक समय में ला-लेजा सकता है।
  5. स्टारशिप Mission को पूरी तरह से Reusable डिज़ाइन किया गया है, जिसका अर्थ है कि इसके प्रमुख हार्डवेयर को समुद्र में नहीं छोड़ा जायेगा और ना ही पृथ्वी के वातावरण में जलने दिया जायेगा।
  6. स्टारशिप सिस्टम को फिर से दूसरे मिशन के लिए प्रयोग किया जायेगा जिससे कंपनी की Mission की लागत काफी कम हो जाएगी है।
  7. स्टारशिप रॉकेट की कुल ऊंचाई 120 मीटर (394 फीट) है।
  8. इसके 50 मीटर (160 फीट) के पिछले हिस्से में 6 उच्च कुशल रैप्टर इंजन लगे हैं।
  9. स्टारशिप में मध्य में प्रणोदक टैंक लगे हुए हैं ये Raptors को तरल मीथेन (CH4) और तरल ऑक्सीजन (O2) देते हैं।
  10. स्पेसएक्स के संस्थापक के अनुसार, तरल मीथेन (CH4) को मंगल की उपसतह मैं पानी से और वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) से संश्लेषित किया जा सकता है। यह प्रक्रिया स्टारशिप की पृथ्वी वापसी यात्रा के लिए पुन: ईंधन भरने की होगी।
  11. स्टारशिप के Front भाग को ऊपरी चरण कहा जाता है जो की एक विशाल पेलोड कम्पार्टमेंट है।
  12. इसमें लगा रॉकेट 70 मीटर (230 फीट) – लंबा है जिसमे सुपर हैवी क्रायोजेनिक (ठंडा) मेथालॉक्स के 3,400 टन (6.8 मिलियन पाउंड) से भरा होगा।
  13. 28 रैप्टर इंजन का उपयोग रॉकेट में किया गया है जो की 16 मिलियन एलबीएस (72 मेगनवेटन) का Maximum Thrust प्रदान करता है।
  14. यह रॉकेट पृथ्वी की low-Earth orbit कक्षा में कम से कम 100-150 टन पेलोड उठा सकता है।
  15. स्पेसएक्स ने टेक्सास में अपनी बोका चीका Facility में स्टारशिप मिशन के लिए विभिन्न प्रोटोटाइप के परीक्षण किये हैं।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें नीचे Comment करके जरूर बताएं और अपने दोस्तों के साथ WhatsApp पर इस Post को Share जरूर करें।

Read More Technology GK


 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: This Content is protected !! Go to our Store at Instamojo.com/gkquestionbank for PDF Downloads.